Mon, Oct 25, 2021
Updated 4:16 pm IST
Updated 4:16 pm IST
news
बिहार
Published on : Feb 26, 2021, 11:05 AM
By : Anirudh kumar

बिहार में पूर्ण शराबबंदी ! सिर्फ एक ढकोसला.....

पटना: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भले हीं इस बात का डंका बजा रहे हों कि बिहार में पूर्ण शराबबंदी है। शराब के मामले में कोई समझौता नहीं करेंगे। लेकिन स्थिति बद से बदतर है। शराब माफियाओं का दबदबा पूरे बिहार में कायम है। 

भले हीं कभी बिहार डीजी रहे उत्पाद एवं मद्य निषेद्य विभाग के मंत्री सुनील कुमार कह रहे हों कि पुलिस और मद्य-निषेद्य की टीम की कार्रवाई से शराब तस्कर डर गए हैं। इसलिए वे पुलिस के साथ मुठभेड़ कर रहे हैं। जिसके रिएक्शन सामने आ रहे हैं। लेकिन मंत्री जी आप यह बेतुका बात बोलकर बिहार के लोगों को मत फुसलाइए। सच तो यह है कि राज्य में शराब माफियाओं और तस्करों का मनोबल इतना बढ गया है कि दारोगा तक की हत्या कर देता है। तस्कर बेखौफ होकर दूसरे राज्यों से शराब मंगवा रहे हैं और गांव-गांव तक डिलीवरी कर रहे हैं।

मुख्यमंत्री जी आपको यह बात माननी होगी कि पुलिस और माफियाओं के बीच का गठजोड़ बहुत मजबूत हो चुकी है। जिसका उदाहरण कई बार सामने भी आ चुका है। इसकी वजह से कई पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई भी हुई। लेकिन नतीजा सामने नहीं आया। 

बुधवार को जहां बेगूसराय में शराब माफियाओं के द्वारा पुलिस पर पत्थरवाजी की गई। वहीं देर शाम सीतामढी में गोलीबारी, जिसका नतीजा यह हुआ कि सब इंस्पेक्टर दिनेश राम की मौत हो गई, जबकि एक चौकीदार गंभीर रूप से घायल है।

आज ऐसी व्यवस्था हो गई कि लोगों शराब माफिया या इस धंधे में लगे लोगों तक जाने की जरूरत नहीं है, बल्कि घर पर बड़े हीं आराम से डिलिवरी कर जाते हैं। इस धंधे में कई छात्र-छात्राएं भी लगी है। 

नीतीश जी आप और आपके मंत्री को कुछ वैसी घटना बताने जा रहा हूं, जो बिहार औरे बिहार की पुलिस के लिए शर्मनाक है। 

22 फरवरी 2021: पश्चिम चंपारण जिले के बथवरिया थाना क्षेत्र स्थित चंद्राहा रूपवलिया गांव में शराब माफियाओं को गिरफ्तार करने पहुंची पुलिस पर ग्रामीणों ने हमला बोलते हुए पुलिस के साथ मारपीट की। पुलिस किसी तरह वहां से जान बचाकर भागी थी।

18 फरवरी 2021: पटना जिले के घोसवरी थाना के सम्यागढ़ ओपी इलाके में शराबियों ने पुलिस टीम पर हमला बोल दिया। चार शराबियों ने ओपी प्रभारी को चारों तरफ से घेर लिया और जमीन पर पटक दिया। ओपी प्रभारी के शोर मचाने पर अन्य जवान पहुंचे और शराबियों को मौके से ही दबोच लिया गया था।

12 फरवरी 2021: पश्चिम चंपारण के मझौलिया में शराब तस्करों के लिए छापेमारी करने गई पुलिस पर महिलाओं ने हमला बोल दिया था। गुस्साए लोगों ने पुलिस की 2 गाड़ियों को क्षतिग्रस्त कर दिया गया था।

23 जनवरी 2021:  पश्चिम चंपारण जिले के रामनगर थाना क्षेत्र के मधुबनी गांव में शराब के धंधेबाजों को पकड़ने गई पुलिस टीम पर ईंट-पत्थर से हमला कर दिया गया था, जिसमें कुछ पुलिस कर्मियों को चोट आई थी। पुलिस की गाड़ियों में भी उस दरम्यान तोड़फोड़ की गई थी। उस वक्त पुलिस को अपनी गाड़ी छोड़कर भागनी पड़ गई थी।

5 सितंबर 2020: राजधानी पटना के जक्कनपुर थाना में शराब माफियाओं और पुलिस के बीच मुठभेड़ हुई थी। ASI के पैर में गोली लगी थी। इसके अलावा तीन से चार लोग घायल हुए थे। 

11 अक्टूबर 2019: बक्सर पुलिस को सूचना थी कि UP से आ रही शराब की खेप लेकर तस्कर सुबह 6 बजे के करीब बिहार में घुसेंगे। इस सूचना के अनुसार पुलिस जगह पर पहुंच गई। समय के अनुसार चार-पांच की संख्या में बाइक आती दिखी तभी पुलिस ने उसे रोकने का प्रयास किया, इतने में तस्करों द्वारा गोलीबारी शुरू कर दी गई थी।

20 अगस्त 2019:  छपरा में अपराधियों और पुलिस के बीच मुठभेड़ में SIT के सब-इंस्पेक्टर मिथिलेश साह समेत एक कांस्टेबल शाहीद हो गए थे। यह जांबाज सब-इंस्पेक्टर मिथिलेश शाह भोजपुर जिले के मुफस्सिल थाना क्षेत्र के नागोंपुर पिरौटा गांव के रहने वाले थे। 

15 दिसम्बर 2018:  रात में शराब से लदी ट्रक का पीछा करने में पुलिस की गाड़ी पोल से टक्करा गई थी, जिसमें छपरा के रहने वाले और नया भोजपुर ओपी में तैनात ASI दीनानाथ सिंह शहीद हो गए। वहीं, गाड़ी के ड्राइवर मनोरंजन यादव व होमगार्ड के दो जवान प्रकाश कुमार व राज कुमार को गंभीर रूप से चोटें आई थीं। रघुनाथपुर निवासी प्रकाश के गर्दन में गंभीर चोटें आई थीं, जिसमें सांस की नली क्षतिग्रस्त हो गई थी। 24 दिसम्बर की रात प्रकाश कुमार की इलाज के दौरान मौत हो गई थी।

20 नवम्बर 2018: बक्सर जिले में शराब तस्करी की सूचना मिलने पर नैनिजोर थाने के बिहार घाट इलाके में डुमरांव SDPO केके सिंह के नेतृत्व में पुलिस टीम पहुंची थी। घेराबंदी हुई तो तस्करों ने पुलिस की गाड़ियों पर पथराव कर दिया था।

28 नवंबर 2017: शराब तस्करों की फायरिंग में सरायरंजन थाना के प्रभारी मनोज कुमार को हाथ में गोली लगी थी। इस दरम्यान दोनों ओर से करीब 50 राउंड गोली चली थी। तस्करों ने पुलिस पर उस वक्त AK-47 से फायरिंग की थी। इस घटना में BMP जवान अनिल कुमार शहीद हो गए थे।

INSIDE STORY
image

स्पेशल रिपोर्ट

चीन का वुहान: जहां से शुरू हुआ कोरोना का कहर

पटना >>>>>>> वुहान शहर का नाम भले हीं चीन के बीजिंग या शंघाई जैसे शहरों के तौर पर नहीं लिया जाता है, लेकिन दुनिया के नक्शे पर अपना वजूद रखने वाले इस शहर का नाम कोरोना वायरस को लेक

image

देश

आखिर क्यों जरूरी है लॉकडाउन बढाना?

पटना: कोरोना वायरस के खिलाफ जारी जंग का ऐलान करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 21 दिन के लॉकडाउन की थी। यह अवधि आगामी 14 अप्रैल को समाप्त हो रहा है। लोगों के मन एक सवाल उठ रहा है कि क्या 15 अप्रै

image

बिहार

बिहार में पूर्ण शराबबंदी ! सिर्फ एक ढकोसला.....

पटना: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भले हीं इस बात का डंका बजा रहे हों कि बिहार में पूर्ण शराबबंदी है। शराब के मामले में कोई समझौता नहीं करेंगे। लेकिन स्थिति बद से बदतर है। शराब माफियाओं का दबदबा पूरे बिहार